Sunday, August 9, 2009

हे गुरुदेव करो स्वीकार

अंश लाल पंद्रे

हे गुरुदेव करो स्वीकार
गुरु वंदन है मेरा संसार

जीवन में मैने है खोया
रखने योग्य कुछ न संजोया
गुरु तुम मेरा करो उद्धार
हे गुरुदेव करो स्वीकार

मैने व्यर्थ ही समय गंवाया
समय गंवा करके पछताया
अब गुरु पद रज ही आधार
हे गुरुदेव करो स्वीकार

निर्बल रहकर बना अभिमानी
समझ रहा खुद को ही ज्ञानी
ये सब दूर करो विकार
हे गुरुदेव करो स्वीकार

अंश लाल पंद्रे

4 comments:

hem pandey said...

अच्छी गुरु वन्दना !

Babli said...

वाह बहुत बढ़िया लगा गुरु वंदना! लिखते रहिये!

'अदा' said...

गुरु गोविन्द दोउ खड़े काके लागूँ पाँव
शीश दिए जो गुरु मिले तो भी सस्ता जान
बहुत अच्छा लिखा है..

Vijay Kumar Sappatti said...

bahut hi acchi aur saarthak kavita ...

man bheeg gaya hai apne guru ke liye is aadar ke \kaaran , mera naman sweekar kare.....

naddem ji bahut dino se aap mere blog par nahi aaye sir ...

namaskar.

vijay
http://poemsofvijay.blogspot.com/