Monday, November 3, 2008

आने वाला.......!!

तकते-तकते राह आँख थक गई होगी....
रूह जिस्म से निकल ........कर ......
कहीं और चली गई होगी.....
आने वाले के कदम.....
किसी और दिशा में......
मुड़ गए होंगे.....
रात भी थक कर....
सो गई होगी.....
सुबह किसी बच्चे-सी निकल,
मचल गई होगी.....
आने वाला कुछ सोचता...होगा....
सबा बहकती हुई-सी ......
कानों में कुछ कहती-सी होगी....
जिस्म से इक......
धुंआ-सा निकलता होगा....
सोच में कुछ.......
पिघलता....हुआ-सा होगा....
आने वाला आता ही होगा....
साँस भी थम-सी गई होगी...
आने वाला बस.....
अभी ही आने को है......
दिल की हर धड़कन...
सुबक कर रह गई होगी....
आने वाला..........
बस आया ही आया.....
मगर ....ऐ.....दिल......
आने वाले को गर....
आना ही होता...
तो अब तक......
आ ही ना जाता...!!

3 comments:

sunil manthan sharma said...

lijiye men aa gaya.

नीरज गोस्वामी said...

बहुत खूब...
नीरज

Udan Tashtari said...

वाह!!

अति सुन्दर!!