Tuesday, July 21, 2009

जीवन को सफल बनायें...ऐसे

यह खूबसूरत स्लाइड शो तैयार किया है डॉक्टर भारती कश्यप ने। उन्होंने जीवन में बेहतर महसूस करने की कला सिखाते इस शो के माध्यम से कम शब्दों में ज्यादा बातें कही हैं। आप भी गौर फरमायें...

7 comments:

'अदा' said...

बहुत अच्छा लगा देख कर, यूँ तो विश्वास, आत्मविश्वास जैसी भावनाओं को हम सभी जानते हैं लेकिन उन्हें कैसे आत्मसात किया जाय यह कभी कोई याद दिला दे तो जीवन में नया जोश आ जाता है और उसी पल हम खुद को थोड़ा बदले की सोच ही लेते हैं, जैसे इस वक्त मैं सोच रही हूँ,
बहुत अच्छा किया तुमने नदीम इसे प्रस्तुत करके ....
खुश रहो...
आपा..,

मोनिका गुप्ता said...
This comment has been removed by the author.
मोनिका गुप्ता said...

Blogger मोनिका गुप्ता said...

डॉ. भारती जी, तो वैसे ही लोगों के जीवन में रोशनी फैलाने का काम कर रही है। साथ ही साथ इस सुंदर और आकर्षक स्लाइड शो के जरिए स्वस्थ और खुशहाल जीवन के बारे में जितनी गंभीरता से बात बतायी गयी है वह काबिल-ए-तारीफ है। सच ही तो है जान है तो जहान है। अपने स्लाइड शो के जरिए भारती जी ने यह बताया है कि यदि आप स्वस्थ है तभी बाहर की दुनिया भी आपके लिए सुंदर है। इसलिए चित्त का प्रसन्न रहना बहुत जरूरी है। एक बार फिर भारती जी को इस अमूल्य जानकारी के लिए आभार।

एक अजनबी said...

बहुत ही शानदार स्लाइड शो है। वैसे मुझे जिंदगी के बारे में बहुत ज्यादा तजुर्बा तो नहीं, लेकिन फिर भी भारती जी की प्रेरणा ने मुझे काफी मजबूती दी...

शाहनवाज़ बारी said...

बहुत ही अच्छी लगी ये प्रेरणा। खास कर ये बात की नकारात्मक लोग कोई समाधान नहीं निकालते, बल्कि वो समस्या को और बड़ी कर देते हैं।

हमराही said...

बहुत ही अच्छा लगा, प्रेरणादायी है। ऐसे ही हौंसला बढ़ाते रहें और नेगेटिव लोगों को भी कुछ ज्ञान दीजिए। हमारे समाज में कई नेगेटिव लोग हैं। जय हो...

जितेंद्र राम said...

मैडम जी, हमें लगता है आपने सिर्फ दूसरों की जिंदगी में रोशनी भरने की ठान ली है। वैसे आप हर रोज न जाने कितनों की आंखों में नयी रोशनी भरने का काम करती हैं। शायद उन्हें यह भी पता नहीं होता है कि गुलाब के फूलों का रंग कैसा होता है?और वैसे लोगों को आप रंगों की पहचान करने और जीवन में नये रंग भरने के लिए शमा जलाने का काम करती हैं। जो अपने जीवन में अब तक सिर्फ सब कुछ महसूस किया है और जिसको दुनिया देखने की ललक थी उसे आपने दुनिया की चकाचौंध से अवगत कराया है। और इस स्लाइड शो के जरिये आपने वैसे लोगों का हौसला आफजाई किया है, जो अपनी जिंदगी की शमा को कुछ बुझा-बुझा सा महसूस करने लगे थे। आपका यह स्लाइड वैसे लोगों को नयी दिशा दे रही है। मैडम जी से मैं सिर्फ इतना कहना चाहूंगा कि - अपने लिए तो सभी जीते हैं पर दूसरों के लिए जीना ही आपके जीवन का मकशद है शायद! जीवन जीने की ऐसी कला सीखाने के लिए आपकी जीतनी तारीफ की जाये कम है। धन्यवाद!