Friday, October 31, 2008

गुस्सा दबा रह जाता है...!!

गुस्सा तो बहुत आता है......

जाने कब मैं इन .........

इन कमीनों को मार बैठूं .........

गुस्सा दबा रह जाता है !!

गुस्सा बहुत आता है.......

की इनको नंगा करके .........

गधे की पीठ पर दौडाऊं..........

गुस्सा दबा रह जाता है !!

गुस्सा तो बहुत आता है.....

इनका मुंह काला करवाकर...

इनके मुंह पर थूक्वाऊँ ..........

गुस्सा दबा रह जाता है...!!

गुस्सा बहुत आता है.....

समूची जनता से इन्हें...

लात-घूँसे बरसवाऊं .....

गुस्सा दबा ही रह जाता है...!!

इस देश का कुछ भी नहीं बन सकता...

....मैं अभी ............

कुर्बानी के लिए तैयार ही नहीं.....!!!!

5 comments:

seema gupta said...

bhootnath je aap ye kyun bhool jatyn hain ke aap bhoot hain or janta yhan bhooto ko vote nahe daite han. Magar itna gussa or kehar kin pr??? Regards

Udan Tashtari said...

अब क्या कहें..दबाये रहो गुस्सा!!

sunil manthan sharma said...

गुस्से को दबाये रखना ही चाहिए, लेकिन हल्ला जरुर बोलना चाहिए.

Sachin Malhotra said...

सब से पहले तो आपका बहुत शुक्रिया कमेन्ट के लिए और बधाई के लिए भी ,.. और रही बात आडम्बरों की तो आपकी जानकारी के लिए बताना चाहूगा की किसी भी तरह की दकियानूसी बातों पर मेरा भी यकीं नही है और जहाँ तक न्यूमेरोलोजी का सवाल है तो ये तो सीधा साधा गणित है जिसके बारे में में बता ही चुका हू! भाग्य कमज़ोर लोगों का हथियार है लेकिन कुछ लोग इस बात को मानते नही , बल्कि कुछ क्या बहुत से लोग ये बात मानते नही उनके लिए भाग्य ही सब कुछ है , बस उन्ही जैसे लोगों को शिक्षा देना चाहता हू ! ताकि वो भी जिंदगी की हकीकत को जान सके ! सभी लोगों को एजुकेट करना ही मेरा मकसद है ! बाकी आपके विचारों का इंतज़ार रहेगा ! आते रहिएगा और अपने विचार बाँटते रहिएगा !

शुक्रिया
सचिन

panchayatnama said...

भाई इतना गुस्सा मत करो. अच्छी बात नहीं है.. अपना ही खून जलता है...